कार्तिक पूर्णिमा व्रत कथा | Kartika Purnima Vrat Katha

नमस्कार पाठकों, इस लेख के माध्यम से कार्तिक पूर्णिमा व्रत कथा PDF / Kartika Purnima Vrat Katha PDF in Hindi प्राप्त कर सकते हैं। कार्तिक माह को सभी माह में श्रेष्ठ माना जाता है। कार्तिक माह में किये गए दान – पुण्य का अनेक गुना फल प्राप्त होता है तथा जो व्यक्ति कार्तिक माह में साधु – सन्तों की सेवा करता है, वह अपने जीवन में नित नए उन्नति के शिखर छूता है। इस पोस्ट में दिए गए लिंक पर क्लिक करके आप कार्तिक मास व्रत कथा PDF | Kartika Maas Vrat Katha PDF in Hindi बड़ी आसानी से डाउनलोड कर सकते हैं।
पूर्णिमा व्रत का सनातन धर्म में बहुत अधिक महत्व माना गया है। पूर्णिमा के दिन व्रत करने से कुंडली में चंद्र प्रबल होता है। वैदिक ज्योतिष के विद्द्वान कहते हैं यदि आपकी कुंडली में चन्द्रमा की महादशा व अन्तर्दशा चल रही है, तो पूर्णिमा व्रत अवश्य करना चाहिए। पूर्णिमा व्रत के दौरान कार्तिक पूर्णिमा व्रत कथा अवश्य पढ़नी चाहिए।

कार्तिक पूर्णिमा व्रत कथा PDF | Kartik Purnima Vrat Katha PDF in Hindi

पौराणिक कथा के अनुसार तारकासुर नाम का एक राक्षस था. उसके तीन पुत्र थे- तारकक्ष, कमलाक्ष और विद्युन्माली. भगवान शिव के बड़े पुत्र कार्तिक ने तारकासुर का वध किया. अपने पिता की हत्या की खबर सुन तीनों पुत्र बहुत दुखी हुए. तीनों ने मिलकर ब्रह्माजी से वरदान मांगने के लिए घोर तपस्या की. ब्रह्माजी तीनों की तपस्या से प्रसन्न हुए और बोले कि मांगों क्या वरदान मांगना चाहते हो. तीनों ने ब्रह्मा जी से अमर होने का वरदान मांगा, लेकिन ब्रह्माजी ने उन्हें इसके अलावा कोई दूसरा वरदान मांगने को कहा.
इसके बाद तीनों ने किसी दूसरे वरदान के बारे में सोचा और इस बार ब्रह्माजी से तीन अलग नगरों का निर्माण करवाने के लिए कहा- जिसमें सभी बैठकर सारी पृथ्वी और आकाश में घूमा जा सके. एक हजार साल बाद जब हम मिलें और हम तीनों के नगर मिलकर एक हो जाएं और जो देवता तीनों नगरों को एक ही बाण से नष्ट करने की क्षमता रखता हो, वही हमारी मृत्यु का कारण हो. ब्रह्माजी ने उन्हें ये वरदान दे दिया.
तीनों वरदान पाकर बहुत खुश हुए. ब्रह्माजी के कहने पर मयदानव ने उनके लिए तीन नगरों का निर्माण किया. तारकक्ष के लिए सोने का, कमला के लिए चांदी का और विद्युन्माली के लिए लोहे का नगर बनाया गया. तीनों ने मिलकर तीनों लोकों पर अपना अधिकार जमा लिया. इंद्र देवता इन तीनों राक्षसों से भयभीत हुए और भगवान शंकर की शरण में गए. इंद्र की बात सुन भगवान शिव ने इन दानवों का नाश करने के लिए एक दिव्य रथ का निर्माण किया.
इस दिव्य रथ की हर एक चीज देवताओं से बनीं. चंद्रमा और सूर्य से पहिए बने. इंद्र, वरुण, यम और कुबेर रथ के चार घोड़े बनें. हिमालय धनुष बने और शेषनाग प्रत्यंचा बनें. भगवान शिव खुद बाण बनें और बाण की नोंक बने अग्निदेव. इस दिव्य रथ पर सवार हुए खुद भगवान शिव. भगवानों से बनें इस रथ और तीनों भाइयों के बीच भयंकर युद्ध हुआ. जैसे ही ये तीनों रथ एक सीध में आए, भगवान शिव ने बाण छोड़ तीनों का नाश कर दिया. इसी वध के बाद भगवान शिव को त्रिपुरारी कहा जाने लगा. यह वध कार्तिक मास की पूर्णिमा को हुआ, इसीलिए इस दिन को त्रिपुरी पूर्णिमा नाम से भी जाना जाने लगा.

कार्तिक पूर्णिमा की पूजा विधि | Kartik Purnima Puja Vidhi

सुबह ब्रह्म मुहूर्त में उठ कर स्नान करने के बाद सूर्य को जल अर्पित करें। संभव हो तो स्नान गंगा, यमुना या किसी भी पवित्र नदियों में करें। सूर्य को जल देने के लिए तांबे के लोटे में जल ले कर उसमें लाल फूल, गुड़ और चावल मिला लें।
इस दिन घर के मुख्य द्वार को आम के पत्तों से सजाएं और शाम को सरसों का तेल, काले तिल और काले वस्त्र किसी गरीब या जरुरतमंद को अवश्य दान करें। इस दिन तुलसी पूजा और दीपक जला कर तुलसी के स्तोत्र का पाठ करें।
इसके बाद 1, 3, 5, 7 या 11 बार परिक्रमा जरूर करें। इसके बाद भगवान शिव के साथ ही भगवान विष्णु के पूजा करें और व्रत पालन कर रहे हो तो नमक का त्याग करें। कार्तिक पूर्णिमा के दिन पूजन होने के बाद अंत में चन्द्रमा की छः कृतिकाओं का पूजन करना भी लाभदायी होता हैं।

कार्तिक मास व्रत कथा PDF | Kartika Maas Vrat Katha PDF in Hindi

You may also like :

You can download कार्तिक पूर्णिमा व्रत कथा PDF / Kartika Purnima Vrat Katha PDF in Hindi by clicking on the following download button.

Leave a Comment